APRIL FOOL
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

प्रधानमंत्री मोदी आज देंगे इस्तीफा।

एक बार की बात है इंग्लैंड के राजा रिचर्ड द्वितीय और बोहेमिया की रानी एनी ने सगाई का ऐलान किया और कहा कि सगाई 32 मार्च 1381 को होगी। उनके इस ऐलान से आम जनता ने खुशियां मनाना शुरू कर दिया लेकिन किसी ने इस बात पर तो ध्यान ही नहीं दिया कि कैलेंडर में 32 मार्च जैसी कोई तारीख होती ही नहीं। दरअसल, राजा-रानी ने अपनी शादी की झूठी खबर देकर जनता के साथ एक तरीके से मजाक किया था। कहा जाता है कि तभी से इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई। चूंकि 32 मार्च कोई दिन नहीं होता इसलिए एक अप्रैल को अप्रैल फूल डे के तौर पर मनाया जाने लगा।

अप्रैल फूल से जुड़ी दूसरी कहानी भी आपको सुनाते है। फ्रांस में साल 1582 में पोप पुराने कैलेंडर की जगह नया रोमन कैलेंडर शुरू किया। हालांकि इसके बावजूद कुछ लोग पुरानी तारीख पर ही नया साल मनाते रहे। जो लोग पुराने कैलेंडर के मुताबिक नया साल मनाते जा रहे थे, उन्हें अप्रैल फूल्स कहा जाने लगा।अगर आप भी हमारी हेडलाइन देखकर आये है तो आपकी जानकारी के लिए बता दे की मोदीजी कोई इस्तीफा नही दे रहे। हमारी ओर से आपको अप्रैल फूल बनने की बधाई।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें