Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

खेल दिवस पर किया जा रहा जिला स्तरीय टैलेंट सर्च का आयोजन,खिलाड़ियों ने दिखाया अपना हुनर

हर साल 29 अगस्त को मेजर ध्यानचंद की जयंती के रूप में, देश में राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। इसी कड़ी में शहडोल जिले में खेल एवं युवा कल्याण विभाग की ओर से टैलेंट सर्च योजना के तहत खेल कार्यक्रम आयोजित किए गए। 27 अगस्त से 4 सितंबर तक चलने वाले इस टैलेंट सर्च प्रोग्राम में कुल 611 प्रतिभागियों ने अपना पंजीयन कराया। पंजीयन ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से किया गया। प्रतिभागियों में जहां 465 छात्रों ने हिस्सा लिया वहीं लगभग 119 छात्राओं ने भी भाग लिया।

27 अगस्त को जिले के पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी के मार्गदर्शन में कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ जहां छात्र छात्राओं का वजन एवं ऊंचाई, सिट अप, पुश अप, सिट एवं रीच, फ्लैमिंगो टेस्ट, 50 मीटर दौड़, 600 मीटर दौड़ जैसे कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। कार्यक्रम को सफल बनाने की जिम्मेदारी पुलिस अधीक्षक के साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, उप पुलिस अधीक्षक, रक्षित निरीक्षक सूबेदार सहित अन्य अधिकारियों को सौंपी गई। साथ ही कार्यक्रम की सफलता का जिम्मा खेल एवं युवा कल्याण विभाग के अधिकारी, पुलिस विभाग के अधिकारी एवं आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारियों को भी सौंपा गया।

हर वर्ष हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद के जन्म दिवस के रूप में हम राष्ट्रीय खेल दिवस मनाते हैं और उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। खेल दिवस पर मंडला में भी पुलिस लाइन खेल मैदान में खेल विभाग द्वारा भी कई खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमें क्षेत्रीय से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक के खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जहां जिला खेल अधिकारी रविंद्र ठाकुर ने की, वहीं मुख्य अतिथि के तौर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गजेंद्र सिंह कंवर को आमंत्रित किया गया।

खेल दिवस के मौके पर नैनपुर में भी नवीन खेल एवं जन कल्याण समिति द्वारा एक दिवसीय फुटबाल मैच का आयोजन किया गया। जिसमें नैनपुर शहर की 6 टीमों ने हिस्सा लिया। फुटबॉल का फाइनल मैच जियो दलदली और नैनपुर स्टार के बीच खेला गया जिसमें नैनपुर स्टार ने 4-2 से जीत हासिल की।

खेल बच्चों में शारीरिक विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसे आयोजन जहां बच्चों में खेल के प्रति जागरूकता पैदा करते हैं वही उन्हें स्वस्थ शरीर और दिमाग भी प्रदान करते हैं। ऐसे खेलों का आयोजन केवल खेल दिवस कि नहीं बल्कि दिन प्रतिदिन के जीवन का हिस्सा बनना चाहिए।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें