Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

सड़कों पर आ रही दरारें, धंस रहे रपटे, प्रशासन की लापरवाही आ रही सामने

प्रशासन की लापरवाही एक बार फिर लोगों के सामने आ गई। अनूपपुर से लेकर शहडोल के श्रीवास्तव मोड़ तक बनी सीसी रोड की हालत बदतर हो चुकी है। यह सड़क सन 2020 में 156 करोड रुपए की लागत से बनाई गई थी। इतने भारी भरकम बजट और मेहनत लगाने के बाद भी सड़क एक बरसात भी न झेल पाई। निर्माण के वक्त ही लोगों द्वारा सड़क की गुणवत्ता की अनदेखी किए जाने की शिकायत की गई थी।

सड़क पर जहां ठेकेदारों द्वारा सस्ते और खराब माल का प्रयोग किया जा रहा था वही दूसरी ओर सड़क के बजट का पैसा वे अपनी जेब में भर रहे थे। परिणाम यह निकला है कि बरसात में सड़क पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। सड़क पर जहां-तहां दरारें और गड्ढे नजर आ रहे हैं। अनूपपुर से श्रीवास्तव मोड़ तक सड़क में अनेक स्थानों पर पुलिया पड़ती है। इन पुलियों के निर्माण में भी खराब मटेरियल का इस्तेमाल किया गया है। नतीजा यह है कि कई जगह पुलियों में भी दरारें पड़ चुकी हैं और उनके धंसने का खतरा बना हुआ है।

यह सड़क पूरे दिन वाहनों से भरी रहती है और शाम के बाद तो यहां ट्रक जैसे भारी वाहन भी निकलते हैं। ऐसी स्थिति में पुलियों के धंसने से और सड़क में पड़ी दरारों से लगातार बड़ी दुर्घटना का खतरा बना हुआ है। बताया गया है कि ठेकेदारों द्वारा सड़क के नीचे भी मुरूम की जगह ओवी (कोयला खदानों से निकली बारीक मिट्टी ) डाली गई थी।खदानों से निकलने वाली ये ओवी बरसात में फिसलन पैदा करती है जिससे दुर्घटनाओं की संभावना और ज्यादा बढ़ जाती है।

सड़क पर बनी अनेक पुलियों में भी पानी भर जाता है। इस सड़क पर बनी पुरानी पुलिया ठेकेदारों द्वारा बंद कर दी गई थीं जबकि शासन का सख्त आदेश था कि उन्हें बंद ना किया जाए। लेकिन ठेकेदारों की मनमानी का नुकसान लोगों को दुर्घटनाग्रस्त होकर चुकानी पड़ रहा है

इतना ही नहीं बल्कि सड़क पर पड़ने वाले पुलों में भी खराब मटेरियल का इस्तेमाल किया गया है। पुलों के किनारे को बांधने के लिए पत्थरों का इस्तेमाल किया गया था जो एक बरसात में ही ढह गए, और पुल के नीचे की मिट्टी बह गई। सही समय पर अगर मरम्मत न की गई तो पुल के धंसने की भी नौबत आ सकती है।

पूरे मामले में अनूपपुर एसडीएम कमलेश पुरी का कहना है कि संबंधित विषय पर एमपीआरडीसी विभाग को पत्र लिखा जा चुका है। मामले की गहन जांच कराई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही होगी। लेकिन प्रशासन इस बात पर मौन है कि तब तक लोगों को होने वाली इस असुविधा का क्या विकल्प है? कल को यदि सड़क पर कोई दुर्घटना होती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा?

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें