Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

आवोहवा उतरी मानकों पर खरी, प्रदूषण से मिली राहत

बड़े अरसों बाद एक राहत की खबर है की जिलावासी स्वच्छ हवा में सांस ले पा रहें हैं। तीन अलग स्टेशनों में कंटीन्यूअस एंबिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग के ज़रिए वायु की गुंडवता की गई थी, जिससे यह पता चला है की जिले की परिवेशीय वायु में प्रदूषकों की मात्रा निर्धारित मानकों से काफी कम पाई जा रही है। यह खबर पर्यावरण की उतम स्थिति का संकेत देती है। नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड कार्बन मोनोऑक्साइड एवं पीएम 10 और पीएम 2.5 मापी गई है जो की निर्धारित भारतीय मानकों से बेहद कम पाई गई है। इस क्षेत्र में चिमनी से निकला काला धुआं दृष्टिगोचर नही होता है और सोनांचल क्षेत्र के परिवेशिय वायु में गंध महसूस नही होती है।

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कार्बनमोनोऑक्साइड की निर्धारित मात्रा परिवेशीय वायु में 02 मिली ग्राम है, यदि शहडोल शहर की बात करें तो इसकी मात्रा 0.51 माइक्रो ग्राम प्रति नॉर्मल क्यूबिक यानी की उससे चार गुना कम पाई जा रही है। बूढ़ार में ये मात्रा 0.46 पाई गई है और बंगवार कॉलोनी में 0.37 पाई गई है। उसी प्रकार पीएम 10 की मात्रा निर्धारित भारतीय मानकों से जो की 100 माइक्रोग्राम नॉर्मल क्यूबिक मीटर है उससे काफी कम 60.28 माइक्रोग्राम प्रति नॉर्मल क्यूबिक पाई जा रही है। जो परिणाम कंटीन्यूअस एंबिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन से प्राप्त हुआ है उसके अनुसार रीजनल कॉलोनी बुढार में स्थापित स्टेशन में पीएम 10 की मात्रा 53.26 व बंगवार कॉलोनी की मॉनिटरिंग स्टेशन में 47.64 माइक्रो ग्राम नॉर्मल क्यूबिक पाई जा रही है।

यह सब तभी संभव हो पाया जब शहडोल के शहरों में गुंडवता मापन यंत्र कंटीन्यूअस एंबिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा उद्योगों को प्रेरित कर स्थापित कराई गई। कई स्टोन क्रशरों के परिसर में 15 फीट ऊंचाई वाला विंड ब्रेकिंग बाउंड्री वॉल बोर्ड द्वारा स्थापित करवाई गई।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें