Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

50 फीसदी की क्षमता से खुलेंगे प्राथमिक स्कूल, राज्य शासन के आदेश का है इंतज़ार

शहडोल जिले में 20 सितम्बर से प्राथमिक स्कूलों को 50 फीसदी विद्यार्थियों की क्षमता से शुरू किया जायगा, इसी के साथ आवासीय स्कूलों में कक्षा 8वीं, 10वीं व 12वीं की कक्षाएं शत – प्रतिशत विद्यार्थियों की क्षमता के साथ शुरू होनी है| राज्य शासन ने इस सम्बन्ध में निर्देश जारी कर तो दिए है किन्तु अभी जिला स्तर पर प्राथमिक स्कूलो के शुरू होने का आदेश अभी जारी नहीं किया गया है |

वर्तमान में हायर सेकेंडरी, हाईस्कूल और मिडिल स्कूल खुल चुके हैं जिनमें कक्षाओं का संचालन 50 फीसदी छात्र क्षमता के साथ किया जा रहा है, हालांकि अभी 50 फीसदी विद्यार्थी भी नहीं पहुंच रहे हैं। दूसरी ओर प्राथमिक स्कूल भी नियमित रूप से खुल रहे हैं लेकिन अभी तक छात्र-छात्राएं नहीं आ रहे हैं।

प्राथमिक स्कूलों में भी गणवेश वितरण, पुस्तक वितरण, खाद्यान्न वितरण जैसे काम लगातार चलते रहे हैं। राज्य शासन से निर्देश मिलने के बाद अब 20 सितंबर से 50 फीसदी क्षमता के साथ कक्षाओं का संचालन शुरू किया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

जिले में प्राथमिक स्कूलों की संख्या 1642 है। इसी तरह मिडिल स्कूलों की संख्या 498 हैं। जबकि 86 हायर सेकेंडरी स्कूल में 18 हजार से अधिक छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। इस तरह जिले भर में पहली से 12वीं तक में कुल 2 लाख से अधिक विद्यार्थी हैं।

आवासीय विद्यालयों में 8वी 10वीं एवं 12वीं के शत-प्रतिशत विद्यार्थियों के लिए छात्रावास संचालित किए जाएंगे। 11वीं के विद्यार्थियों के लिए 50 फीसदी क्षमता के साथ छात्रावास की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। जिले में कुल सात आवासीय विद्यालय है।

एकलव्य स्कूल धुरवार, एकलव्य/गुरुकुलम शहडोल, कन्या शिक्षा परिसर पांडव नगर, ज्ञानोदय शिक्षा परिसर विचारपुर, कन्या शिक्षा परिसर कटकोना बुहार, एकलव्य/कन्या शिक्षा परिसर जैतपुर और आदर्श आवासीय विद्यालय जयसिंहनगर। सभी विद्यालय ट्राइबल विभाग के नियंत्रण में हैं। ट्राइबल विभाग के सहायक आयुक्त एमएस अंसारी ने बताया कि राज्य शासन के निर्देश मिल गए हैं. एक-दो दिन में इसके संचालन के आदेश जारी हो जाएंगे|

प्राथमिक एवं आवासीय विद्यालयों के संचालन के लिए पहले जिला आपदा प्रबंधन से सहमति लेना बेहद ज़रूरी है साथ ही में एक पेरेंट-टीचर मीट करानी भी ज़रूरी है ताकि सभी अभिभावकों को छात्रों को विद्यालय भेजने के लिए सहमत किया जा सके|

ये सब देखते हुए जिला कलेक्टर वंदना वैद्य का कहना है कि राज्य शासन से दिशा-निर्देश मिल गए हैं। जिला स्तर पर जल्द ही क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक कर स्कूलों के संचालन के लिए चर्चा की जाएगी। इसके बाद आदेश जारी किया जाएगा।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें