Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

जारी है बारिश से तबाही का दौर, बाढ़ में बह गया तिपान नदी पर बना पुल, कई इलाकों में जलभराव

मंगलवार की दोपहर से शुरू हुई बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। लगातार हो रही तेज बारिश से क्षेत्र में जनजीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त हो चुका है। बारिश के कहर से सड़कें, पुल, खेत, बस्ती कुछ भी अछूता नहीं रहा। हर जगह पानी ने अपना कब्जा कर लिया है।

सबसे बुरा हाल अनूपपुर जिले के वेंकट नगर क्षेत्र का है। यहां अलान और तिपान नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बढ़ चुका है और इलाके में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है। पिछले दो दिनों में इस इलाके में लगभग 12 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

इतना ही नहीं बल्कि जिला मुख्यालय के समीप ग्राम हर्री बर्री सहित अनेको गांव को जोड़ने वाला तिपान नदी पर बना पुल बाढ़ में बह गया। पुल के टूट जाने से कई गांवों का संपर्क टूट चुका है।

तिपान नदी में आई बाढ़ में 15 सितंबर को वेंकट नगर के एक युवक के बह जाने की खबर सामने आई थी। एसडीआरएफ की टीम द्वारा पवन केवट नामक उस युवक की लगातार तलाश की जा रही है लेकिन 2 दिन बाद भी उसका कोई पता नहीं चल पाया है। 15 सितंबर को पवन केवट नदी पार करते हुए तिपान नदी में बह गया था। ऐसी घटना के बाद प्रशासन ने भी नदी और नालों के किनारे होमगार्ड के जवान तैनात कर दिए हैं। लोगों से भी अपील की है कि वे नदी और नालों के किनारे जाने से बचें।

लगातार हो रही बारिश का असर कृषि क्षेत्र पर भी पड़ा है। कई हेक्टेयर की जमीन बारिश के पानी में जलमग्न हो चुकी है और फसलें डूब चुकी हैं। यहां तक कि नदी किनारे लगी हुई फसलें बढ़े हुए जलस्तर के कारण बह गई हैं।

अमरकंटक में स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय भी बारिश की चपेट से नहीं बच सका। विश्वविद्यालय परिसर में भी कई जगह जलभराव हो चुका है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रकाश मणि त्रिपाठी ने हालात को देखते हुए तत्काल राहत कार्य पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही विश्वविद्यालय के करीब ढाई सौ से ज्यादा परिवारों की मॉनिटरिंग की जा रही है। प्रशासन द्वारा राहत और बचाव कार्य के साथ जवानों की तैनाती भी बढ़ा दी गई है और बारिश से हुए नुकसान का जायजा लिया जा रहा है।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें