Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

किरर घाट में तैयार की जा रही रिटेनिंग वॉल, नवंबर से होगा यातायात शुरू

पिछली बारिश में आए भूस्खलन से अनूपपुर के रीवा-अमरकंटक मुख्य मार्ग के पहाड़ी हिस्से का कुछ हिस्सा टूट गया था और यातायात बाधित हो गया था। बारिश में चट्टान के खिसकने और मलबे के कारण रास्ता पूरी तरह से बंद हो गया था। लेकिन अब एमपीआरडीसी ने इस क्षतिग्रस्त रास्ते की मरम्मत का काम शुरू कर दिया है। बारिश में इस रास्ते में तीन जगह भूस्खलन की घटना सामने आई थी। इन तीनों स्थानों पर रिटेनिंग वाल खड़ी करने का निर्णय लिया गया है।

एमपीआरडीसी के सहायक प्रबंधक ने बताया कि इस रास्ते पर 33 से 35 मीटर और 45 मीटर की लंबाई में तीन रिटेनिंग वाल तैयार किए जाएंगे ताकि बारिश या अन्य कारण से भूस्खलन या चट्टान के खिसकने जैसी घटनाओं को रोका जा सके। इस पूरे प्रोजेक्ट की लागत लगभग 2 करोड रुपए बताई जा रही है।

प्रशासन ने बताया कि पहाड़ी क्षेत्र और बरसात के मौसम की वजह से तकनीकि टीम और मजदूरों को यहां काम करने में कुछ दिक्कतें आई लेकिन अब जल्द ही सड़क मरम्मत और रिटेनिंग वाल खड़े किए जाने का काम पूरा कर लिया जाएगा। इस पूरी योजना के तहत लगभग 1 किलोमीटर का मार्ग, नाली निर्माण और तीन स्थानों पर वाल का निर्माण किया जाना है। प्रशासन की मानें तो नवंबर तक यह काम पूरा कर लिया जाएगा। और जल्द ही यातायात भी खोल दिया जाएगा।

अमरकंटक के मार्ग पर पिछले दिनों हुई तेज बारिश में किरर घाट में एक भूस्खलन की घटना सामने आई जिसमें पहाड़ का बहुत सारा मलवा सड़क पर आ गिरा था और यातायात जाम हो गया था। दुर्घटनाओं को देखते हुए इस मार्ग को बंद कर दिया गया था और फिलहाल मरम्मत कार्य चालू है। किरर घाट का मार्ग बंद हो जाने की वजह से राजेंद्र ग्राम-बैहर घाट- जैतहरी -अनूपपुर वाले वैकल्पिक मार्ग का प्रयोग किया जा रहा है।

एमपीआरडीसी शहडोल के सहायक प्रबंधक मुकेश बेले ने बताया कि जल्द ही निर्माण कार्य पूरा किया जाएगा और नवंबर माह तक यातायात खोल दिया जाएगा। प्रशासन के इस कदम से लोगों को जहां यातायात में सुविधा होगी वही दुर्घटनाओं की संभावना भी कम होगी।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें