Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

अवैध खनन के केस में वंशिका कंस्ट्रक्शन पर लगाया गया अर्थदंड, राजस्व पुलिस व खनिज विभाग की संयुक्त टीम ने मारी रेड

शहडोल के ब्यौहारी थाना के तहत सोन नदी के किनारे स्थित पौड़ी रेत खदान में कई दिनों से अवैध खनन किया जा रहा था। जिले में रेत खनन का ठेका लेने वाले वंशिका कंस्ट्रक्शन के खिलाफ कार्यवाही करते हुए पुलिस ने कलेक्टर को प्रतिवेदन भेजा है।

पिछले मंगलवार को सोन नदी के बटली घाट में देर रात पुलिस, राजस्व व खनिज विभाग की संयुक्त टीम ने रेड मारी और अवैध खनन में लगे जेसीबी हाईवा सहित चार वाहनों को जप्त कर लिया। संयुक्त टीम ने पहले इलाके की घेराबंदी की और अवैध कारोबार का भांडा फोड़ा। खनिज विभाग के लेखों के अनुसार सोन नदी के इस घाट में कोई भी वैधानिक रेत खदान स्वीकृत नहीं है। राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के आदेशों के उल्लंघन और प्रतिबंधित अवधि में अवैध खनन करने पर यह कार्यवाही की गई है।

मौके पर मौजूद वाहन चालकों से पूछताछ में अन्य खुलासे भी हुए हैं और जानकारी के अनुसार अन्य 35 वाहनों के मालिकों के खिलाफ अवैध परिवहन का केस बनाया है और जब्त वाहनों और परिसंपत्तियों को अधिकार में लेकर नीलामी करने का प्रस्ताव पेश किया है।

इससे पहले 11- 12 सितंबर को लगभग 20 घंटे तक चली कार्यवाही में पौड़ी रेत खदान से कुछ वाहन और खनन मशीनें जब्त की गई थी। जांच में पता चला है कि जिस जगह रेत का खनन किया जा रहा था वह जगह वंशिका कंस्ट्रक्शन को लीज में दी गयी थी। यहां से लगभग 500 घन मीटर रेत के अवैध खनन का आंकलन किया गया है।

वंशिका कंस्ट्रक्शन के खिलाफ जांच टीम ने 29,50,250 रुपए का अर्थदंड भी प्रस्तावित किया है। साथ ही मौके से जप्त वाहनों की जमानत राशि भी तय की गई है। कलेक्टर कोर्ट से नोटिस जारी होने के बाद यह कार्यवाही की जा रही है। जांच टीम का यह भी कहना है कि जिस जगह रेत खनन किया जा रहा था वह वन्य जीव संरक्षण क्षेत्र में आता है और यहां खनन करना गैरकानूनी है।

प्रशासन की नाक के नीचे से यह अवैध खनन का कारोबार न जाने कितने समय से चलाया जा रहा था और वन्य क्षेत्रों व प्राकृतिक स्थानों को नुकसान पहुंचाया जा रहा था। देर से ही सही लेकिन प्रशासन द्वारा कार्यवाही करते हुए इन खनन माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही हुई है। उम्मीद है क्षेत्र में चल रहे और भी अवैध खनन कारबारों को बंद कराया जाएगा।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें