Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

जनसुनवाई का समय कम होने से जिला निवासियों को हो रही परेशानी, प्रशासन से की समय बढ़ाने की मांग

जनसुनवाई के जरिये लोग अपने शिकायतों को दर्ज करा सकते हैं और इस माध्यम के ज़रिये उन्हें यह भरोसा और आश्वासन होता है कि उनकी इन शिकायतों पर जल्द से जल्द कार्यवाही शुरू की जायगी। पर शहडोल जिले में कोरोनाकाल के बाद लम्बे समय से शुरू जनसुनवाई में लोगों को अपनी शिकायतों की सुनवाई का मौका नहीं मिल पा रहा है। दरअसल कोरोना संक्रमण को देखते हुए जनसुनवाई में नई गाइडलाइन्स जारी की गई है जिसमे सिर्फ एक घंटे के समय में ही लोगों की शिकायतों की सुनवाई की जा रही है। जिससे बाकि बची हुई शिकायतों की सुनवाई नहीं हो पा रही है और शिकायतों के निराकरण न होने से लोगों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

नई गाइडलाइन्स के अनुसार अब सिर्फ सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर 12 तक ही शिकायतों की सुनवाई की जाती है। इस बात की खबर अभी तक दूर-दराज से आने वाले लोगों को नहीं हुई है जिसके कारण उनको निराश होकर अपने घर वापिस जाना पड़ता है। इसी मंगलवार को जनसुनवाई में लगभग 48 लोग ही अपनी शिकायतों का आवेदन दे पाए, और उसके बाद इन शिकायतों के निराकरण के लिए अधिकारियों को आदेश दिया गया।

वहीं करीब दर्जन भर लोग सभाभवन के बाहर अपनी-अपनी याचिका को लेकर खड़े रहे। हालांकि अधिकारियों ने उनकी सुनवाई की, लेकिन बैठक हाल में मौजूद सभी अधिकारियों के बीच वे अपनी बातें नहीं रख पाए।

लोगों द्वारा प्रशासन की मांग-

वही दूर गांव खोहरी से आए अमरदीप ने बताया कि उन्हें जानकारी नहीं थी कि सुनवाई अब एक घंटे ही हो रही है।इस परेशानी को देखते हुए अब लोगों की मांग है कि पहले की तरह ही जनसुनवाई की समय सीमा को सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर दी जाये। इसके लिए प्रशासन को एक सिस्टम बनाने की ज़रूरत है जिसमे लोग एक-एक कर आकर अपनी शिकायतों के बारे में बता सके और जनसुनवाई के अधिकारियों द्वारा उनका निराकरण किया जा सके। उम्मीद है कि लोगों की इस मांग पर ध्यान दिया जायगा ताकि किसी भी व्यक्ति की शिकायत अनसुनी न रह जाये।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें