Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

इस माह भी प्रशासन नहीं कर पाया केरोसिन आपूर्ति की व्यवस्था, भाड़ा न बढ़ाए जाने से काम छोड़ रहे हैं डीलर

उमरिया जिले में पिछले 3 माह से पात्र लोगों को केरोसिन आपूर्ति नहीं हो पा रही है। प्रशासन द्वारा लगातार डीलरों से बात की जा रही है लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है।

उमरिया जिले की कुल साढ़े छः लाख आबादी में से 1.26 लाख राशन कार्डधारी परिवार हैं, यानी लगभग तीन लाख लोग राशन कार्ड धारी हैं, इनमें से भी 80% लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन व्यतीत करते हैं। इतनी बड़ी आबादी में से केवल 47000 ही ऐसे गरीब लोग हैं जिन्हें उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन मिला हुआ है।

बाकी की सारी आबादी रात में चिमनी व लालटेन में, रसोई में और सिंचाई के लिए सिर्फ केरोसिन पर ही निर्भर हैं। लेकिन पिछले 3 महीनों से केरोसिन आपूर्ति ना हो पाने की वजह से लोगों को कई प्रकार की मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है।

ग्रामीण इलाकों में बिजली का हाल सभी को पता है, रात में प्रकाश करने के लिए केरोसिन की आवश्यकता पड़ती है, वहीं रसोई में खाना पकाने के लिए ईंधन के रूप में इसका इस्तेमाल होता है। सिंचाई व्यवस्था में भी मशीनों में केरोसिन का ही इस्तेमाल किया जाता है।

पिछले महीने पूर्व डीलर द्वारा केरोसिन सप्लाई का लाइसेंस रद्द कर दिया गया था। डीलर का कहना है कि प्रशासन द्वारा भाड़ा नहीं बढ़ाया जा रहा है। सप्लाई का भाड़ा तब तय किया गया था जब डीजल के दाम 55 रुपए थे लेकिन अब डीजल के दाम बढ़कर 101 रुपए प्रति लीटर हो चुका है लेकिन भाड़ा अभी तक एक भी बार नहीं बढ़ाया गया है। ऐसे में ट्रक मालिक सप्लाई करने से मना कर रहे हैं और डीलरों को मजबूरन काम छोड़ना पड़ रहा है। इसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

इस पूरे विषय पर संबंधित अधिकारियों के तरह तरह के वक्तव्य सामने आ रहे हैं। उमरिया जिला कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने कहा है कि कई डीलरों के पास प्रपोजल भेजे जा रहे हैं और जल्द से जल्द केरोसिन आपूर्ति की वैकल्पिक व्यवस्था बनाई जाएगी। बांधवगढ़ के विधायक श्री नारायण सिंह ने भी लगभग ऐसी ही बात दोहरा दी है। वही उमरिया के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक अजय सिंह का कहना है कि उन्होंने इस संबंध में प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है और लोगों को होने वाली मुसीबतों से अवगत कराया है। साथ ही प्रशासन से जल्द से जल्द केरोसिन आपूर्ति की मांग की है।

उम्मीद है प्रशासन जल्द से जल्द ठोस कार्यवाही करते हुए केरोसिन आपूर्ति की दिशा में किसी वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में कोई समाधान निकाल सकेगा।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें