Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

आसमान छू रही महंगाई, आवश्यक सामानों का आखिर कैसे न करे आम जन इस्तेमाल

अब हालत इतनी बदतर हो चुकी है कि महंगाई लगातार आसमान छू रही है। जिसका सीधा सीधा असर आम जनता पर पड़ रहा है। अब यह वही बात हो गई है की आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपया। बढ़ोतरी हो भी ऐसी चीज़ों में रही है जिससे आम जन द्वारा मुँह नहीं मोड़ा जा सकता।

तेल से लेकर के सब्जी से लेकर के राशन सब कुछ आवश्यकताओं का सामान इतना महंगा हो गया है। आम आदमी इस बढ़ती महंगाई से हारता हुआ नज़र आने लगा है। इन दामों में बढ़ोतरी होने के बावजूद इन्हे आम इंसान को मज़बूरी में खरीदना ही पड़ता है आखिर घर चलाने के लिए सामान खरीदना भी ज़रूरी है।

इसी के चलते युवा कांग्रेस जिला महासचिव मोहम्मद साबिर ने कहा कि हालत इतनी बेकार हो चली है कि आम जनता की थाली पर सीधे यह महंगाई वार कर रही है। सारी वजह एक दूसरे से लिंक पाई गई हैं, बढ़ते दामों में सब्ज़ी महंगी हो गयी है जिसको पकाने के लिए गैस की ज़रूरत होती है जिसकी कीमत सातवे आसमान पर पहले से ही है, इसी के साथ खाने का तेल, पेट्रोल, डीजल सब कुछ आम आदमी की पहुँच से दूर हो चला हैैं। अब बेबस आदमी अच्छे दिनों की आस में कोई चमत्कार का इंतज़ार कर रहा है।

उसी के साथ अन्य युवा कांग्रेस नेताओं ने कहा की त्योहारों के समय महंगाई और बढ़ जाती है, जिससे आम आदमी का जीना मुशिक्ल होता हुआ नज़र आ रहा है। इन त्योहारों के सीजन में जहाँ पहले नवरात्र हुए, फिर अब दीपावली में तो यहाँ राशन की ज़्यादा खपत होती है, अब आम आदमी करे भी तो क्या करे।

यदि शहडोल में पेट्रोल की बात की जाए तो इसकी कीमत नार्मल पेट्रोल के लिए 117 प्रति लीटर है, प्रीमियम पेट्रोल 121 और डीजल 107 के पास पहुंच गया है। अब इन महंगाई को देखते हुए यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि लोगों को किन मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा होगा।

अब सवाल उठता है प्रशासन की ओर कि आखिर क्यों, अच्छे दिन का वादा करके चुप बैठी हुई है, आखिर क्यों लोगों के हित में फैसले नहीं लिए जाते, आखिर क्यों आम जनता दिन प्रतिदिन इस महंगाई से लाचार हो रही है। अब ज़रूरत है तो इस ओर ध्यान देने की ओर लोगों को हो रही मुसीबतों का जायज़ा लेने की।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें