Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

जिले में कृषक उत्पादन संगठन द्वारा दिया जा रहा औषधीय खेती पर जोर

शहडोल जिले में लगातार किसानों की आय बढ़ाने और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में कृषक उत्पादन संगठन द्वारा किसानों को औषधीय खेती, व्यवसाय खेती व अन्य उपयोगी फसलों को लगाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

इतना ही नहीं बल्कि कृषक उत्पादन संगठन इस नए प्रकार की खेती के लिए किसानों को प्रशिक्षण भी दे रहा है। औषधि और वैज्ञानिक खेती सीखने के लिए आसपास के जिलों से किसानों के समूह शहडोल पहुंचने लगे हैं। बुधवार को डिंडोरी जिले से 30 सदस्य महिला किसानों का एक दल शहडोल पहुंचा।

महिला किसानों ने शहडोल जिले के सोहागपुर जनपद पंचायत के तहत गांव उधिया में स्थानीय किसानों द्वारा की जा रही अमरू की खेती का निरीक्षण किया। इसके साथ ही मैकाल ट्रेडिशनल ऑर्गेनिक कृषक उत्पादक संगठन के कार्यालय में भी जाकर अमरूद की खेती के विषय में जानकारी हासिल की और इसे लगाने का तरीका सीखा।

मैकाल ट्रेडिशनल ऑर्गेनिक कृषक उत्पादन संगठन के सीईओ प्रदीप सिंह ने अमरूद की खेती के विषय में आयोजित चर्चा में किसानों को इस नई वैज्ञानिक खेती के बारे में बताया और उनसे होने वाले मुनाफे, विक्रय आदि के विषय में भी जानकारी दी। इसके साथ ही मुनगे की पत्ती तोड़कर भी रोजगार उपलब्ध कराने के विषय में जानकारी दी गई।

जानकारी है कि सुहागपुर जनपद के गांव उधिया में स्थानीय किसान पियूष गर्ग द्वारा तीस एकड़ में अमरू की खेती की गई थी, जिसे देखने डिंडोरी की यह महिला किसान आई थीं। इस नए प्रकार की औषधि और व्यवसायिक खेती से निश्चित तौर पर किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी और उन्हें आत्मनिर्भर बनाया जा सकेगा।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें