Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

जिले में महिला और बाल अपराध की रोकथाम के लिए आयोजित किया गया न्यायिक जागरूकता अभियान

अनूपपुर जिले में लगातार बढ़ रहे बाल और महिला अपराध की रोकथाम के लिए इंदिरा गांधी राष्ट्रिय जनजातीय विश्वविद्यालय के श्रीशील मंडल और पौंडकी के गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल में एक दिवसीय न्यायिक जागरूकता कैंपेन का आयोजन हुआ।

महिलाओं से सम्बंधित अपराधों की श्रेणी में उनके शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, और भावनात्मक उत्पीड़न या शोषण से सम्बंधित अपराध पहले भी भारतीय समाज में देखे जाते थे किंतु अब महिलाओं पर होने वाले अपराध और भी चौकाने वाले हो गए है। राष्ट्रिय अपराध रिकॉर्ड के अनुसार प्रति वर्ष महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों में कई लाख की संख्या में मामले दर्ज होते हैं जिनमें छेड़-छाड़, मार-पीट, अपहरण, दहेज उत्पीड़न, से लेकर बलात्कार और हत्या के मामले भी शामिल है। और आज के दौर में यह मामले लगातार बढ़ते ही चले जा रहे है।

वहीं बच्चों के साथ होने वाले अपराध जैसे कि बाल श्रम, बाल व्यापार, अपहरण, शारीरिक और मानसिक हिंसा, यौन शोषण, बलात्कार आदि के मामले भी दिन पर दिन तेज़ी से बढ़ते चले जा रहे है। ये अपराध घर, स्कूल, अनाथालयों, सड़क, जेल, सुधार घर या किसी भी जगह पर किसी के द्वारा भी किये जा सकते है।

इन सभी अपराधों की रोकथाम के लिए यह जागरूकता कैंपेन आयोजित किया गया है। इस कार्यक्रम में स्कूल के बच्चे और कई ग्रामवासी भी शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में अध्यक्ष श्रीशील मंडल शीला त्रिपाठी ने कहा कि बाल और महिला अपराध समाज में बढ़ते जा रहे है, और इस कार्यक्रम के ज़रिये हमारा मकसद लोगों में इन अपराधों के खिलाफ जागरूकता फैलाना है।

हमें पता होना चाहिए कि हमारी सुरक्षा और न्याय के लिए क्या-क्या कानून बनाये गए है ताकि ऐसे अपराधों को रोका जा सके। और हमारा कर्तव्य ऐसे अपराधों के खिलाफ अपनी आवाज़ बुलंद कर आरोपियों को सजा दिलाना है। इसके अलावा इस कार्यक्रम में सभी प्रमुख मेहमानों द्वारा स्कूल का निरीक्षण कर, सभी असुविधाओं और समस्याओं के निराकरण हेतु आश्वासन दिया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला न्यायाधीश अनूपपुर आर.के. सिंह बिसेन द्वारा की गई। और इस मौके पर श्रीशील मंडल के सभी पदाधिकारी के अलावा पौंडकी सरपंच, पूर्व सरपंच, माध्यमिक स्कूल पौंडकी के कर्मचारीगण एवं कन्या छात्रावास अधीक्षिका और पौंडकी गांव के ग्रामीण उपस्थिति रहे।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें