Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

अनूपपुर के व्यापारी व युवा संघ की मांग विदेशी कंपनी अमेज़न को करे बैन

अनूपपुर जिले के व्यापारी वर्ग सहित युवाओं ने 2 दिसंबर को विदेशी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेज़न को बैन किए जाने की मांग को लेकर अपर कलेक्टर सरोधन सिंह को ज्ञापन सौंपा है। दरअसल, इन लोगों का आरोप है कि जिले व प्रदेश भर में दिन पर दिन बढ़ते जा रहे अपराधों के पीछे कहीं न कहीं अमेज़न कंपनी का हाथ है।

साथ ही इनका मन्ना ये भी है कि वर्तमान में जो व्यापारी संघ के लोग है, उन्हें बाज़ार में हो रहे नुकसान के पीछे भी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अमेज़न का हाथ है। क्योंकि अब हर युवा बाजारों से नहीं बल्कि अपने मोबाइल फ़ोन पर घर बैठे-बैठे सभी चीज़ों को फ्री होम डिलीवरी के साथ मंगवाता है, जिससे इनका धंधा ठप पड़ने लगा है।

यहीं नहीं, इनका कहना है कि प्रदेश भर में जो नशीले पदार्थों की तस्करी की जा रही है, उसमें भी अमेज़न कंपनी का योगदान है। युवा इस कंपनी से ऑनलाइन माध्यम से ड्रग्स,ज़हर और गांजा मंगवाते हैं, इसलिए तल्काल प्रभाव से इस कंपनी को ही बैन कर दिया जाना चाहिए।

हाल ही में बढे अपराधों की लिस्ट में अपराधियों द्वारा कई बार ऑनलाइन हथियार व नशीले पदार्थ मंगवाए गए हैं। विगत दिनों भिंड पुलिस द्वारा ऑनलाइन कंपनी अमेज़न द्वारा सप्लाई किया गया 20 किलो गांजा जब्त किया गया था, जिसमें दो लोग गिरफ्तार भी हुए थे। जबलपुर में भी अपराधों की वृद्धि तेज़ी से हो रही है। ऐसा पता चला है कि वारदातों में ऑनलाइन माध्यम से चीनी चाकू मंगवाए गए हैं जिनसे जिले में कई चाकू से वार करने के केस सामने आए हैं।

इसी तरह इंदौर में भी एक पिता ने शिकायत में बताया कि उसके बेटे ने आत्महत्या करने के लिए ऑनलाइन ज़हर मंगवाया था जो कि प्रदेश में आसानी से नहीं मिलता।

अगर अमेज़न कंपनी द्वारा ऐसा किया जा रहा है, तो इसके चलते कंपनी को ऐसे प्रोडक्ट्स बेचने पर बैन लगाना चाहिए, न कि कंपनी को ही बैन किया जाना चाहिए। इसके पीछे का कारण यह है कि अमेज़न ज़रूर एक विदेशी कंपनी है किंतु इस कंपनी से जुड़े भारत के कई लोगों को इससे रोजगार मिलता है। अगर ये कंपनी बैन कर दी जायगी, तो इसमें भारत का ही नुक्सान होगा। क्योंकि कभी-कभी जो सामान आम जनता को स्थानीय स्तर पर नहीं मिलता, वो इसे सस्ते दामों पर यहां से खरीद सकते हैं। अंत में इसमें लोगों का ही फायदा हो रहा है।

हालांकि अमेज़न की तरक्की देखकर कुछ स्थानीय स्तर पर काम करने वाले छोटे व्यापारियों को शायद यह बात रास नहीं आ रही। तभी वे अमेज़न को बैन करने में जुट गए हैं। यह बात पूरी तरह से माननीय है कि हाल ही में हुई कुछ वारदातों में इस कंपनी का नाम सामने आया है। उस पर ज़रूर भारतीय सरकार को सख्त कदम उठाने की आवश्यकता है, किंतु लोगों को अच्छी सर्विस भी इस कंपनी द्वारा प्रदान की जाती है, उस बात को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें