Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

स्कूल बस की शक्ल लिए बस स्टैंड से यात्री ढो रही बस

टैक्स चोरी करने के अनोखे मामले में बस संचालक ने अपनी गाड़ी को स्कूल बस की शक्ल दे दी और उस पर एमकेडी पब्लिक हायर सेकेंडरी स्कूल का नाम चस्पा करवा दिया।
शिकायत है कि यह बस प्रदेश के नरसिंहपुर जिले में स्थित स्कूल में ना मिलकर शहडोल से छत्तीसगढ़ तक यात्रियों को ढोते हुए दिखाई दे रही है। बस क्रमांक एमपी 49 पी 354 के पास स्कूल के विद्यार्थियों को ढोने तक का ही परमिट है। लेकिन व्यवस्था को उंगली दिखाते हुए बस संचालक कई महीनों से शहडोल, बुढार, अमलाई, चचाई,अनूपपुर बदरा और कोतमा तक बस का उपयोग सवारियों को ढोने के लिए कर रहा है। ।


लाखों रुपए की टैक्स चोरी का मामला
बस का परमिट स्कूली छात्रों को ढोने का होने से इन लोगों का लाखों रुपए का रोड टैक्स बच रहा है। नियम के मुताबिक अगर इस पर सरकार को देनदारी की गणना करे तो एक महीने का ₹9000 टैक्स बनता है और एक लाख से ऊपर पहुंच जाता है। लाखों रुपए दबाकर बस संचालक मात्र ₹600 देकर सरकार को लॉलीपॉप थमा रहा है।


सवाल उठ रहे हैं कि जिले के परिवहन अधिकारी और शहडोल जिले के डीएसपी के मामला संज्ञान में होने के बाद भी कोई कार्यवाही क्यों नहीं की जा रही है?
छुटपुट गलतियों पर तगड़ा चालान काटने वाली अनूपपुर और बुढार चौक पर तैनात ट्रैफिक पुलिस की निष्क्रियता भी उसे संदेह के घेरे में लाकर खड़ा कर रही है।


कहीं ऐसा तो नहीं कि स्थानीय पुलिस ही बस संचालक से आपस में लेन-देन करके मामला सामने नहीं आने देना चाहती!


जो अधिकारी खुद की ईमानदारी और मुस्तैदी की तारीफे करते नहीं थकते, इतनी बड़ी टैक्स चोरी उनकी जानकारी में नहीं आएगी। यह बात समझ से परें है।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें