नही पहुँचा किसानों के पास एसएमएस, बिना खरीदी बीता एक दिन, अब 24 केंद्रों में खरीदी की तयारी हुई शुरू
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

नही पहुँचा किसानों के पास SMS, बिना खरीदी बीता एक दिन, अब 24 केंद्रों में खरीदी की तयारी हुई शुरू

जिले में ऐसे 2134 किसान हैं जो अब भी उपार्जन से वंचित हैं, ऐसे ही किसानों के लिए 26 उपार्जन केंद्रों पर धान खरीदी के लिए शासन द्वारा पाँच दिन की अधिक मोहलत दी गई है, इन पाँच दिनों से एक दिन तो बिना खरीदी के ही बीत गया, क्यूंकी वह रविवार था जिस वजह से किसी भी केंद्र में खरीदी नही हो पाई। अब बचे चार दिनों में इतनी अधिक मात्रा में किसान हैं जिनसे खरीदी की जानी है, अब इन हालातों में यह सवाल उमड़ कर के आता है की जो 6300 पंजीकृत किसान बचे हुए हैं वह इस वंचित रह जाएंगे वहीं दूसरी तरफ जो खरीदी व्यवस्था बनाई गई है वह भी इस तरह बनाई गई होंगी जो शर्तों की बेड़ियों से जकड़ी हुई होंगी।

इन बचे हुए चार दिनों में उन्ही किसानों से खरीदी की जाएगी जिनके पास सेकंड एसएमएस नही पहुँच पाया था या फिर वही लोग जो 15 जनवरी तक संबंधित केंद्र में अपनी उपसतिथि दर्ज करवा चुके हैं। लेकिन अब बचे हुए किसानों का क्या, जिनके पास सेकंड क्या, एक भी एसएमएस नही पहुंचा। अब इसमे भोले भाले किसानों का क्या दोष उनके द्वारा तो पंजीकरण करवाया जा चुका है लेकिन शासन के लेवल से ही एसएमएस नही पहुंचा तो आम सी बात है की यहाँ शासन द्वारा इसके लिए कोई व्यवस्था नही बनाई है। अब जिन किसानों की इच्छा भी थी उन्हे भी शासन के इस सुस्त रवेये का शिकार बनना पड़ रहा है।

अब बिचारे किसान असमंजस्य की स्तिथि में है की आखिर कब तक उनके धान का उपार्जन हो पाएगा। कहीं बिल्कुल पहले की ही तरह मौसम की मार के कारण, उपार्जन से वंचित तो नही रह जाएंगे? या फिर उपार्जन केंद्रों में उमड़ने वाली भीड़ में किसान मौके से चूक तो नही जाएगा? इसके चलते जब विभागीय अधिकारियों से पूछा गया तो उन्होंने बताया की शासन ने किसानों से खरीदी के लिए आदेश पत्र तो जारी कर दिया है लेकिन विभागीय पोर्टल बंद है, जिस वजह से एसएमएस की दिकत आ रही है।

यह खरीदी राजस्व अधिकारियों की निगरानी में होगी। और वो भी उन्ही किसानों से खरीदी की जाएगी जिनकी जानकारी समिति प्रबंधकों द्वारा भेजी गई है। अब चिंता का विषय यह है की नए निर्देशों के बावजूद कई ऐसे किसान रहेंगे जो अपनी उपज को खरीदी केंद्र में बेचने से छूट जाएंगे।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें