Tricolor being insulted on Amazon, are you wearing a tricolor mask? There may be jail.
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

अमेजान पर किया जा रहा तिरंगे का अपमान, क्या आप तिरंगे वाला मास्क पहन रहे है? हो सकती है जेल।

राष्ट्रीय सम्मान के अपमान की रोकथाम अधिनियम 1971, राष्ट्रीय ध्वज, संविधान, राष्ट्रगान और भारतीय मानचित्र सहित देश के राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान को प्रतिबंधित करता है। साल 2002 में लागू की गई भारतीय ध्वज संहिता में तिरंगे के व्यवसायिक उपयोग पर प्रतिबंध है। इसके अलावा झंडे को कुशन, रुमाल, नैपकिन या किसी ड्रेस सामग्री पर कढ़ाई करना या प्रिंट करना अधिनियम के तहत राष्ट्रीय ध्वज का अपमान माना जाता है। अगर कोई व्यक्ति इसका उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उसे जुर्माने सहित अधिकतम 3 साल की जेल हो सकती है।

इन नियमों, कानूनों को बाजू में रखकर ई-कॉमर्स साइट अमेजॉन पर मास्क,टीशर्ट चॉकलेट, की चेन और जूते जैसे उत्पादों पर भारतीय ध्वज प्रिंट करके बेचा जा रहा है। 26 जनवरी गणतंत्र दिवस को मुश्किल से 1 दिन बचा है। होना तो यह चाहिए कि इस समय राष्ट्रध्वज और उसके गौरव को सर आंखों पर रखा जाए, लेकिन सम्मान करना तो दूर की बात है, राष्ट्रीय त्योहारों पर इसके अपमान करने वालों की तादाद काफी ज्यादा हो जाती है।

नियम कहता है कि राष्ट्रीय ध्वज हमेशा हाथ से काते और बुने हुए उन या फिर सूती या रेशमी खादी से बना होना चाहिए। लेकिन 15 अगस्त और 26 जनवरी पर तिरंगा सड़कों पर बिकता हुआ, गाड़ी और पैरों के नीचे आता हुआ या फिर कचरे के ढेर में पड़ा देखा जाता है। पिछले कई सालों से ई-कॉमर्स साइट पर भी ऐसे उत्पादों की बिक्री बढ़ी है।

2017 में इस तरह के एक मामले में भारत सरकार ने कार्यवाही करते हुए संबंधित उत्पादों की बिक्री पर रोक लगा दी थी लेकिन इतने नियम कानून होने के बावजूद बार-बार ऐसे मामले सामने आते रहते हैं। सोशल मीडिया पर #Amazoninsultsnationalflag के नाम से ट्रेंड चलाया जा रहा है जिसमें उक्त साइट का बहिष्कार करने की मांग की जा रही है। अगर देखा जाए तो सामान की बिक्री करने वाला, उसे बेचने वाली ई-कॉमर्स कंपनी और उसे खरीदकर पहनने वाला व्यक्ति, यह सभी राष्ट्रीय ध्वज संहिता में दोषी सिद्ध हो सकते हैं।

देखिए देश प्रेम की भावना किसी में जबरदस्ती नहीं जगाई जा सकती, वह आपके मन में होनी चाहिए। खुद से सवाल कीजिए, क्या यहां-वहां पैरों के नीचे आता तिरंगा आपको देखने में अच्छा लगता है? देश के गौरव का मास्क के रूप में उपयोग क्या आपको ठीक लगता है? इसे जूते के रूप में पहना जाना क्या आप को अनुचित नहीं लगता? अमेजॉन जैसी कंपनियों को चाहिए कि ऐसे उत्पादों की बिक्री पर तत्काल रोक लगे और लोगों में संदेश जाए इसलिए भारत सरकार द्वारा ऐसे मामलों में दंडात्मक कार्यवाही ज़रूरी है।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें