Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

आखिर क्यूँ Ukraine में फंसे भारतीय छात्रों के साथ हुई मारपीट?

यूक्रेन और रूस में छिड़ी जंग के बीच भारतीय नागरिकों (Indian Students in Ukraine) के साथ मारपीट की खबर सामने आई है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इससे जुड़ा एक वीडियो शेयर कर इसकी जानकारी दी है. साथ ही राहुल गांधी ने मोदी सरकार (Modi Government) से भारतीय छात्रों को इस मुश्किल घड़ी में अकेला नहीं छोड़ने की अपील की है.

वीडियो शेयर करते हुए राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘इस तरह की हिंसा झेल रहे भारतीय छात्रों और इस वीडियो को देखने वाले उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना है. किसी भी अभिभावक को इससे नहीं गुजरना चाहिए. भारत सरकार को तत्काल विस्तृत निकासी योजना को फंसे हुए लोगों के साथ-साथ उनके परिवारों के साथ साझा करना चाहिए. हम अपनों को नहीं छोड़ सकते.’

इससे पहले राहुल गांधी ने कीव में बंकरों में फंसे भारतीय लड़कियों का वीडियो शेयर किया था. राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, “बंकरों में भारतीय छात्रों के दृश्य विचलित करने वाले हैं. कई छात्र भारी हमले की चपेट वाले पूर्वी यूक्रेन में फंसे हैं. मैं फंसे छात्रों के चिंतित परिवार के सदस्यों के साथ खड़ा हूं. मैं इन छात्रों को तत्काल वापस लाने की व्यवस्था करने की भारत सरकार से फिर अपील करता हूं.”

यूक्रेन में भारतीय छात्रों पर अब एक नया संकट छा गया है. पोलैंड देश की सीमा पर तैनात यूक्रेनी सेना के कुछ जवानों पर आरोप है कि उन्होंने भारतीय छात्रों के एक दल को जबरन रोकते हुए उनको पीटा और डराया धमकाया. घटना का शिकार हुए छात्रों की यूक्रेन में ही मौजूद एक सहपाठी ने नाम न छापने की शर्त पर यह जानकारी दी है कि उनकी यूनिवर्सिटी से एक भारतीय छात्रों के एक दल के साथ ये सब किया गया है

आरोप यह भी है कि बॉर्डर पर भारतीय छात्रों के साथ यूक्रेनी सैनिकों ने मारपीट कर एक छात्रा का हाथ तोड़ दिया है, जबकि डराने के लिए फायर भी किए. आरोपों के अनुसार हमला करने वाले यूक्रेनी सैनिकों ने छात्रों से कहा कि आपकी भारत सरकार यूक्रेन का साथ नहीं दे रही है, इसलिए हम लोग आपका सहयोग क्यों करें.

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें