Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

को फाउंडर अशनीर ग्रोवर का भारत पे से इस्तीफा, कहा इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया जा रहा है

फिनटेक कंपनी भारत पे के को फाउंडर और सुप्रसिद्ध रियलिटी शो शार्क टैंक के बाद घर घर में अपनी पहचान बनाने वाले अशनीर ग्रोवर ने कंपनी बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है। पिछले 2 महीने से चले आ रहे विवाद के बीच अशनीर के इस्तीफे से एक नया विवाद का विषय पैदा हो गया है। शार्क टैंक में अपनी सख्त छवि और हाजिर जवाबी के लिए उन्हें जाना जाता है लेकिन कंपनी बोर्ड को दिये अपने इस्तीफे में उन्होंने लिखा कि आज मैं यह बहुत भारी मन से लिख रहा हूं क्योंकि मुझे उस कंपनी से जाने के लिए मजबूर किया जा रहा है जिसे मैंने खड़ा किया है।

अशनीर का इस्तीफा तब आया है जब अभी कुछ दिनों पहले ही उनकी पत्नी माधुरी ग्रोवर को भी आर्थिक गतिविधियों के आरोप में भारत पे कंपनी से बर्खास्त कर दिया गया था। माधुरी ग्रोवर पर आरोप है कि उन्होंने अपने पर्सनल ब्यूटी ट्रीटमेंट और यात्राओं का खर्चा फर्जी इनवॉइस के जरिए कंपनी के खर्चे में जोड़ दिया था।

अशनीर ग्रोवर को को लेकर यह पूरा विवाद शुरू हुआ कोटक महिंद्रा बैंक के स्टाफ के साथ अभद्र भाषा में बात करते हुए अशनीर का ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद। जनवरी में ऑडियो क्लिप के वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया और अशनीर मार्च के अंत तक लंबी छुट्टी पर चले गए। कोटक महिंद्रा बैंक ने भी उन पर कानूनी कार्यवाही करने की बात कही थी। 3 महीने लंबी छुट्टी पर भेजे जाने के बाद भारत पे कंपनी प्रबंधन ने ऑडिट फर्म से कामकाज की समीक्षा कराने का फैसला किया था। अशनीर ने अपने खिलाफ जारी कंपनी की जांच रोकने के लिए सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र (SIAC)में एक मध्यस्थता अर्जी दायर की थी, लेकिन उनकी सभी मांगों को नकारते हुए उन्हे किसी तरह की राहत देने से इंकार कर दिया गया था।

सब ओर से घिरते अशनीर पर फ़र्ज़ी गतिविधियों में लिप्त रहने के आरोप लगे थे लेकिन इसी अशनीर ग्रोवर ने भारत पे को मात्र 2 सालों में टॉप फिनटेक कंपनियों में शामिल करा दिया था। 2018 में शाश्वत नकरानी और भाविक कोलाडिया के साथ मिलकर अशनीर ने कंपनी शुरू की। प्ले स्टोर से इसके ऐप को डाउनलोड करने वालों की संख्या एक करोड़ से ज्यादा पहुंच गई है। कंपनी का फरवरी 2022 में वैल्यूएशन 21 हजार करोड़ से ज्यादा है। भारत पे मे अशनीर की हिस्सेदारी 9.5 % यानी 1800 से 1900 करोड रुपए थी। अब चूंकि ग्रोवर ने इस्तीफा दे दिया है वे भारत पे में अपने शेयर बेचने की सोच रहे हैं।

तीन दोस्तों ने इतने कम समय में इतनी सफलता हासिल की, इतनी बड़ी कंपनी बनाई। अब एक दोस्त के हटने के बाद सफलता की गाड़ी इसी तरह आगे बढ़ती रहेगी या पहिये थम जाएंगे, यह तो कह नहीं सकते लेकिन पिछले दो महीनों से जारी ये हलचल अभी नही थमेगी यह निश्चित है।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें