आखिर कैसे भारत की मिसाइल पाकिस्तान पर जा गिरी?
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

आखिर कैसे भारत की मिसाइल पाकिस्तान पर जा गिरी?

पाकिस्तान में मिसाइल गिरने की घटना पर केंद्र सरकार की तरफ से आधिकारिक बयान आया है. रक्षा मंत्रालय की तरफ से बताया गया कि ‘तकनीकी खामी’ की वजह से हादसा हुआ है. रक्षा मंत्रालय ने बताया कि ‘तकनीकी खामी’ की वजह से 9 मार्च को नियमित रखरखाव के दौरान दुर्घटनावश एक मिसाइल चल गई. मंत्रालय ने बताया कि मिसाइल पाकिस्तान के एक इलाके में गिरी. उसने घटना को ‘खेदजनक’ बताया

भारत सरकार ने कहा, “यह पता चला है कि मिसाइल ने पाकिस्तान के एक क्षेत्र में लैंड किया। जहां एक तरफ यह घटना अत्यंत खेदजनक है, राहत की बात यह भी है कि दुर्घटना के कारण किसी की जान नहीं गई है।” इससे पहले दिन में, पाकिस्तानी सशस्त्र बलों ने दावा किया था कि भारत का एक प्रक्षेप्य कथित तौर पर उसके क्षेत्र में उतरा था। पाकिस्तानी थल सेना ने गुरुवार को दावा किया कि उसने कथित तौर पर भारत से उसके हवाई क्षेत्र में आ रही एक मिसाइल का पता लगाया है, जो पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में गिर गया। 9 मार्च को शाम छह बजकर 43 मिनट पर एक तेज गति से उड़ने वाली वस्तु ने भारतीय क्षेत्र से उड़ान भरी और वह अपना मार्ग भटक कर पाकिस्तान के क्षेत्र में प्रवेश कर गई तथा गिर गई। उसके गिरने से असैन्य इलाकों को कुछ नुकसान हुआ है, लेकिन इसमें किसी की जान नहीं गई।

पाकिस्तान ने दावा किया कि एक निहत्थे भारतीय सुपरसोनिक मिसाइल ने सिरसा से उड़ान भरी और बुधवार शाम को पाकिस्तानी क्षेत्र में 124 किलोमीटर की दूरी पर उतरी। यह कहा गया है कि मिसाइल, 40,000 फीट की ऊंचाई पर मंडरा रही थी और भारतीय और पाकिस्तानी दोनों हवाई क्षेत्र में यात्री उड़ानों और जमीन पर नागरिकों और संपत्ति को भी खतरे में डाल रही थी।बैलिस्टिक मिसाइलों के फ्लाइट टेस्ट की पूर्व-सूचना पर भारत और पाकिस्तान के बीच 2005 में समझौता हुआ था। समझौते के अनुसार, प्रत्येक देश को फ्लाइट टेस्ट से कम से कम तीन दिन पहले सूचित करना होता है, चाहे वह सतह से सतह पर, जमीन पर या समुद्र से प्रक्षेपित मिसाइले हैं। इसमें आगे कहा गया है कि प्रक्षेपण स्थल अंतरराष्ट्रीय सीमा या नियंत्रण रेखा से 40 किमी के भीतर नहीं गिरना चाहिए और नियोजित प्रभाव क्षेत्र 75 किमी के भीतर नहीं आना चाहिए।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें