Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

हिजाब पर विवाद: आखिर क्यूँ मुस्लिम महिलायें पहनती हैं हिजाब?

हर धर्म के अपने कुछ रीति-रिवाज होते हैं। भारत में कई धर्म के लोग साथ रहते हैं। जहां हिंदुओं को सिर पर आंचल लेते देखा गया है, वहीं मुस्लिम महिलाएं बुर्का पहनती हैं। हर धर्म में इनके पीछे कुछ कारणों का जिक्र है। आज हम बात करेंगे की आखिर क्यूँ मुस्लिम महिलायें बुर्का पहनने में इतना जोर डाल रहीं हैं।

बुर्का पहनना न केवल मुस्लिम धर्म को दर्शाता है बल्कि इससे महिलायें सशक्त भी फ़ील करती हैं, जी हाँ उनके मुताबिक, इसे पहनकर वो खुद को सुन्दर, कॉन्फिडेन्ट और स्ट्रांग समझती हैं। कई महिलाएं जब भी बुर्के पर बैन की बात उठती है, तो इसके समर्थन में सामने आ जाती हैं। उनके मुताबिक ये उनपर कोई बंदिश नहीं लगाती बल्कि उनको खुदा का दिया अनमोल तोहफा है।  

यदि बात करें बुर्के को पहनने की असल वजह तो कुरान में यह लिखा हुआ है, की उन्हें ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जिसके बाद उनकी आंखें, चेहरा, हाथ और पैर पराए मर्द को नहीं दिखाई दे। इस कारण मुस्लिम महिलाएं बुर्का पहनती हैं। 

यदि बात करें हिजाब को पहनने के तरीकों की तो, हिजाब को पहनने के कई सारे ढंग होते हैं. जैसे कि टरबन, रेट्रो- गुलाब की तरह, राइट-लेफ्ट, टरकिश, स्केवयर शैली। शहरों में, हिजाब कपड़े पहनने का एक तरीका है जो अपने लोगों की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता है। दूसरे शब्दों में, हिजाब पहनने का अर्थ है स्थानीय परंपराओं और रीति-रिवाजों को पहचानना और उनका सम्मान करना जो समाज की छवि को आकार देते हैं। मुस्लिम देशों में इसे पहनना अनिवार्य नहीं हो सकता है लेकिन यह उन लोगों के लिए मुस्लिम के रूप में एक महिला की पहचान करने में मदद कर सकता है जो उसे नहीं जानते हैं। हिजाब लोगों के बीच आध्यात्मिक माहौल बनाने में मदद करता है, यह दर्शाता है कि वे अपने धर्म के प्रति जागरूक हैं।

हिजाब पहनने का मुख्य उद्देश्य स्वयं का सम्मान करना, शील और संयम दिखाना है। इस तरह मुस्लिम महिलाएं अपने ऊपर से परफेक्ट दिखने के दबाव को दूर कर सकती हैं जिसका मतलब है कि उन्हें देखने वाले हर पुरुष के लिए आकर्षक होना। मोहम्मद की शिक्षाओं के अनुसार, पुरुषों को अपनी निगाहें नीची करनी चाहिए, जिसका अर्थ है कि उन महिलाओं की ओर न देखें जो उनसे संबंधित नहीं हैं।

हिजाब अनिवार्य नहीं है और केवल कुछ मुस्लिम महिलाएं ही इसे पहनती हैं। ऐसे कई विद्वान हैं जो कहते हैं कि हिजाब अनिवार्य है; हालाँकि, इस विषय पर और अधिक शोध की आवश्यकता है क्योंकि इस मामले पर अलग-अलग राय हैं।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें