CUCET
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

JNU, DU समेत देश के सभी सेंट्रल यूनिवर्सिटी में CUCET के आधार पर होंगे दाखिले

देश भर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में ग्रेजुएशन में दाखिला लेने के लिए 12वीं बोर्ड में अभी कितने अंक आए इस से कोई मतलब नहीं रहेगा। डीयू, बीएचयू जैसी प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में दाखिला पाना हर किसी का सपना होता है, लेकिन अभी तक इसके हाय कट ऑफ होने की वजह से 12वीं में कम अंक लाने वाले विद्यार्थियों को निराशा ही हाथ लगती थी। ऐसे विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। देश भर की सभी 45 सेंट्रल यूनिवर्सिटी में अंडर ग्रेजुएट कोर्स में कॉमन एंट्रेंस यूनिवर्सिटी टेस्ट ज़रूरी होगा। यूजीसी का कहना है कि यूनिवर्सिटी में एडमिशन सिर्फ CUCET के आधार पर होंगे। जुलाई के पहले सप्ताह में टेस्ट का आयोजन किया जाएगा।

इसका मतलब यह हुआ कि विश्वविद्यालयों के पात्रता मानदंडो को छोड़कर छात्रों के दाखिले में 12वीं कक्षा के प्राप्त अंकों का कोई असर नहीं पड़ेगा। यूजीसी के अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने कहा कि CUCET का पाठ्यक्रम 12वीं कक्षा के सिलेबस से मिलता-जुलता ही रहेगा।सीयूसीईटी में सेक्शन 1 ए, सेक्शन 1 बी, सामान्य परीक्षा और पाठ्यक्रम विशिष्ट विषय होंगे। सेक्शन 1 ए अनिवार्य होगा जो कि 13 भाषाओं में होगा और उमीद्वार इनमे से अपनी पसंद की भाषा का चयन कर सकते हैं।

छात्रों के पास अंग्रेजी, हिंदी, आसामी बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मलयालम,मराठी, पंजाबी, तमिल, तेलुगू और उर्दू का विकल्प रहेगा। हालांकि CUCET का विश्वविद्यालयों के आरक्षण नीति पर कोई प्रभाव नहीं होगा। लेकिन CUCET के बाद किसी भी केंद्रीय काउंसलिंग का आयोजन नहीं होगा। एक बात गौर करने वाली है कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों को अपने विश्वविद्यालय में दाखिले के लिए बोर्ड परीक्षा में प्राप्त एक न्यूनतम प्रतिशत को अपनाने का अधिकार होगा।

यानी विश्वविद्यालय यह तय कर सकता है की 12 वी में इतने प्रतिशत से कम अंक वाले छात्रों को हम दाखिला नहीं देंगे। हालांकि तब भी उसे CUCET देना होगा। ऑडियो विजुअल या परफॉर्मिंग आर्ट्स ,एक्स्ट्रा करिकुलर और स्पोर्ट्स कैटेगरी में दाखिले के लिए यूनिवर्सिटी प्रैक्टिकल को आधार बना सकती है। एनसीईआरटी सिलेबस को आधार बनाने से देश के सभी छात्र एक ही तरह से तैयारी कर सकते हैं। 2022- 23 सत्र से देश के सभी संस्थान चाहे वह स्टेट यूनिवर्सिटी हो, निजी यूनिवर्सिटी हो या डीम्ड यूनिवर्सिटी हो CUCET के स्कोर को आधार बनाकर अपने संस्थान में छात्रों को दाखिला दे सकते हैं।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें