Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

बेस मेटल्स के दाम 20% तक गिरे

लंबी वेटिंग के बीच कच्चे माल के दामों में कमी से इस साल देश की ऑटो इंडस्ट्री के अच्छे दिन वापस लौटने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। अनुमान है कि इस साल कारों की रिकॉर्ड बिक्री होगी। इसका फायदा खरीदारों को डिस्काउंट या ऑफर्स के रूप में मिल सकता है।

बीते 3 सालों में देश की ऑटो इंडस्ट्री को लॉकडाउन, कच्चे माल की कीमतों में इजाफा, सप्लाई चेन की दिक्कत, सेमीकंडक्टर और अन्य कॉम्पोनेंट की किल्लत, महंगे फ्यूल जैसी कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है। हालांकि अब, बीते महीने स्टील, एल्युमिनियम, कॉपर, पैलेडियम की कीमतों में 10-20% की कमी आई है। कार को बनाने में 70% हिस्सेदारी इन्हीं मेटल्स की होती है। इनके दाम घटने से मैन्युफैक्चरर का ग्रॉस मार्जिन बढ़ने की उम्मीद है।

सेमीकंडक्टर की किल्लत भी काफी हद तक दूर हो गई है, यानी प्रोडक्शन में समस्या नहीं है। दूसरी तरफ, देश में कारों का बैकलॉग 6 लाख से ज्यादा है, इसमें से आधा अकेले मारुति सुजुकी का है। ऐसे में कार कंपनियों के सामने डिमांड की भी कोई समस्या नहीं है। पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज घटने से इनकी कीमतों में कमी आई है। इससे खरीदारों का सेंटीमेंट सुधरा है। जानकार इन सब फैक्टर्स को ऑटो इंडस्ट्री के अच्छे दिनों की शुरुआत मान रहे हैं।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें