Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

मानसून से पहले क्यों आता है प्री मानसून, क्या है मध्य प्रदेश का हाल

भारत में मानसून के आने में कुछ ही दिन रह गए हैं. एक जून को मानसून केरल में पहुंचता है और उससे पहले ही उसके आने की संभावना और बारिश के पूर्वानुमान आदि की चर्चाएं चल निकलती है। ऐसी ही चर्चा करेंगे आज हम मध्य प्रदेश की जहां प्री मानसून एक्टिविटी शुरू होगी।

दौर और नर्मदापुरम में 10 जून से प्री मानसून की बारिश शुरू होगी। फिर तेज हवाओं के साथ बौछारें गिरेंगी। भोपाल को यह 12 जून से तर करना शुरू कर देगा। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश ने बताया 12 जून से लेकर 19 जून तक मध्यप्रदेश में प्री मानसून एक्टिविटी होगी। इससे तापमान में गिरावट आएगी। संभावना है कि इंदौर संभाग से मानसून एंट्री कर सकता है। यहां खंडवा, बड़वानी, बुरहानपुर, धार जिले शामिल है।

यह बारिश मानसून के सेट होने तक चलती रहेगी, हालांकि अभी भी मानसून की रफ्तार धीमी है। अभी यह केरल और कर्नाटक के उत्तरी हिस्से में पहुंच गया है। इससे प्री मानसून की गतिविधियां थोड़ी तेज हुई हैं। बीते 24 घंटे में दिन और रात का तापमान नीचे आया है।

अभी दो चक्रवाती घेरा राजस्थान और यूपी के ऊपर बना हुआ है। पाकिस्तान से हवाएं आ रही हैं। मौसम शुष्क होने के कारण प्रदेश में इसका सीधा असर पड़ रहा है। इसी कारण बीते 3 दिन से भीषण गर्मी हो रही है। दिन और रात का पारा काफी ऊपर चला गया। ग्वालियर, चंबल, सागर और रीवा संभागों में अभी भी लू चल रही है। भोपाल और इंदौर में पारा तो कंट्रोल में है, लेकिन गर्मी कम नहीं है। बुधवार से लोगों को राहत मिल सकती है।

प्री मानसून एक्टिविटी के 10 जून से एक बार फिर सक्रिय होने की संभावना है। 19 जून तक यह लगातार चलती रहेगी। मप्र में मानसून 19 जून के बाद सेट हो सकता है। अभी मध्यप्रदेश में मानसून 20 जून को आता है। अभी 2 दिन तक ग्वालियर, चंबल, सागर और रीवा में लू का प्रकोप रहेगा। यहां पर 10 जून के बाद ही राहत की उम्मीद की जा सकती है। यही इलाके अभी सबसे ज्यादा तप रहे हैं। यहां पर तापमान 46 डिग्री को पार कर चुका है।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें