Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने 16 में से 8 नगर निगम में महापौर पद के प्रत्याशियों के नाम फाइनल कर दिए

प्रत्येक महानगर में एक नगर – निगम की स्थापना की जाती है, यह नगर निगम क्षेत्र में होने वाले सभी दायित्यों की पूर्ति की देख-रेख करता है | नगर में साफ-सफाई से जुड़े सभी कार्यो को कर्मचारियों द्वारा करवाते है | प्रत्येक नगर पालिका में एक महापौर (मेयर) होता है, जिसे नगर का पहला नागरिक भी कहा जाता है | आज हम बात करेंगे मध्यप्रदेश महापौर चुनाव की, जी हाँ जहां कांग्रेस ने 16 में से 8 नगर निगम में महापौर पद के प्रत्याशियों के नाम फाइनल कर दिए हैं। बाकी 8 पर घमासान मचने लगा है। पहला विवाद ग्वालियर से सामने आया है। यहां कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार की पत्नी शोभा सिकरवार का नाम महापौर प्रत्याशी के लिए आया है। इसके बाद जिलाध्यक्ष देवेंद्र शर्मा ने मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने पत्नी रीमा का नाम आगे कर दिया है।

कमलनाथ ने कहा है कि कांग्रेस एक-दो दिन में निकाय चुनाव के लिए प्रत्याशी फाइनल कर देगी। चुनाव में सभी लोग टिकट मांगते हैं, लेकिन किसी एक को टिकट मिल पाता है। हम इसमें किसी व्यक्ति को नहीं बल्कि संगठन को मजबूत करने वाला फैसला करेंगे। टिकट वितरण को लेकर कांग्रेस पार्टी में खींचतान के सवाल पर कमलनाथ ने कहा- मैं 45 साल से राजनीति कर रहा हूं, सब लोग अच्छा काम करते हैं और टिकट चाहते हैं। ऐसे में कभी-कभी तनाव हो जाता है।

भोपाल से मध्यप्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष विभा पटेल का नाम तय हुआ है। इंदौर से विधायक संजय शुक्ला और जबलपुर से जिला अध्यक्ष जगत बहादुर सिंह अन्नू को टिकट दिया जा रहा है। सागर से पूर्व विधायक सुनील जैन की पत्नी निधि जैन को प्रत्याशी बनाने का निर्णय लिया जा चुका है।

विभा ने 1999 ने महापौर का चुनाव लड़ा था और भाजपा की राजो मालवीय को हराया था। 2008 में पार्टी उन्हें गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव भी लड़ा चुकी हैं। हालांकि, वे हार गई थीं। पार्टी ने उन्हें मार्च में मध्यप्रदेश महिला कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया था। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का उनको समर्थन हासिल है और उनका भोपाल में व्यक्तिगत संपर्क भी बेहतर है।

उज्जैन से तराना विधायक महेश परमार का नाम भी लगभग तय है। मुरैना में शारदा सोलंकी और अर्चना मालवीय में से एक नाम तय होना है, तो रीवा में अजय मिश्रा के नाम पर सहमति बन रही है।

कांग्रेस ने ग्वालियर में विधायक सतीश सिकरवार की पत्नी शोभा सिकरवार को महापौर चुनाव लड़ाने का मन बनाया था, लेकिन एकराय नहीं बन पा रही है। पार्टी के ग्वालियर से जिलाध्यक्ष देवेंद्र शर्मा ने बुधवार को प्रदेश कार्यालय में पदाधिकारियों से मुलाकात कर पत्नी को ही टिकट देने के लिए ताल ठोंक दी है। ग्वालियर नगर निगम के लिए प्रभारी बनाए गए पूर्व मंत्री मुकेश नायक कार्यकर्ताओं के बीच सामंजस्य बनाने की कोशिश में जुटे हैं।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें