Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

धार्मिक मुद्दों पर बयान देने से बचने की हिदायत दी भाजपा ने अपने नेताओं को

नेताओं के कान्ट्रवर्शल बयान तो आए दिन सुर्खियों में नज़र आते हैं, इसी के चलते भाजपा सरकार ने अपने नेताओं को ऐसे बयान देने से बचने की हिदायत दी है, जी हाँ, भाजपा ने धार्मिक भावनाएं आहत करने वाले अपने 38 नेताओं की पहचान की है। हिदायत में भाजपा सरकार ने कहा की धार्मिक मुद्दों में बात करने से पहले पार्टी से पर्मिशन आवश्यक ले लें।

भाजपा का यह निर्णय पैगंबर मोहम्मद साहब पर विवादित टिप्पणी करने वाले नूपुर शर्मा और नवीन कुमार पर कार्रवाई होने के बाद सामने आया है। नेताओं के पिछले 8 साल (सितंबर 2014 से 3 मई 2022 तक) के बयानों को IT विशेषज्ञों की मदद से खंगाला गया है। करीब 5,200 बयान गैर-जरूरी पाए गए। 2,700 बयानों के शब्दों को संवेदनशील पाया गया। 38 नेताओं के बयानों को धार्मिक मान्यताओं को आहत करने वाली कैटेगरी में रखा गया।

यदि कुछ नेताओं की बात करें जो हेट स्पीच देने में हैं माहिर, तो, अनंत कुमार हेगड़े, शोभा करंदलाजे, गिरिराज सिंह, तथागत राय, प्रताप सिम्हा, विनय कटियार, महेश शर्मा, टी. राजा सिंह, विक्रम सिंह सैनी, साक्षी महाराज, संगीत सोम का नाम इनमे है शामिल।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on pinterest

साझा करें

ताजा खबरें

सब्सक्राइब कर, हमे बेहतर पत्रकारिता करने में सहयोग करें